Short Essay on Mahatma Gandhi

A short Essay on Mahatma Gandhi.”Be the change, you want to see, in the world.” This Story is about a Mother who wants to change her son habits.

Be the change, you want to see, in the world- Mahatma Gandhi

एक बार एक गाँव मै  Kamal नाम की औरत रहा करती थी । Kamal का एक बेटा था, उसका नाम Rahul था । Rahul  को मिठाई खाने की बहुत बुरी आदत लग गई थी , Rahul  की माँ इस बात से बहोत चिन्तित रहती थी ।

Rahul  की माँ ने  Rahul  को बहोत समझाया, लेकिन  Rahul  नहीं माना । फिर  Rahul  को उसके गाँव  के लोगो ने समझाया , लेकिन  Rahul पर इसका कोई असर नहीं पड़ा । Rahul  मिठाईय खाने की आदत को ,  नहीं छोड़ पा रहा था ।

Swami Vivekananda Quotes In Hindi

Rahul  की माँ को कही से पता चला ,के पास ही मे एक महात्मा जी का आसरम है । Rahul  की माँ ने  Rahul  को महात्माजी के आसरम ले जाने का निश्चिय किया।

अगली सुबह  Rahul  की माँ  Rahul  को लेके महात्माजी के आसरम पहुंच गई और  महात्मा जी को सारी बात बता दी।  Rahul  बहोत ही जिद्दी है , और बहोत मिठाईया खाता है।

इसे मैने और गाँव वालो ने बहोत समझाया ।  लेकिन  Rahul  नहीं मान रहा है। महात्माजी ने सारी बाते ध्यान से सुनी; और कुछ देर सोचने के बाद कहा : “आप दो सप्ताह बाद आइये , आप की Problem का समाधान करेंगे।”

Mahatmaji

Rahul  की माँ दो सप्ताह बाद  Rahul  को लेके महात्माजी के पास आसरम पहुंच गई; महात्माजी ने  Rahul  को ज़्यादा मिठाईया खाने से होने वाली तकलीफे और नुकसान के बारे मै बताया |

और मिठाईयो से होने बाले सेहत पर बुरे प्रभाव को बिस्तार से समझाया और; आखिर कार  Rahul  को बात समझ आ गई और; Rahul  ने निश्चित किया अब धीरे-धीरे मिठाईया खाना कम कर देगा; जल्द ही मिठाई खाना बंद करने का वादा महात्मा जी और अपनी माँ से किया ।

Abdul Kalam Thought in Hindi

यह बात सुन के,  Rahul  की माँ बहोत खुश हुई  लेकिन  Rahul  की माँ ने सोचा; महात्माजी ये बाते तो  दो सप्ताह पहेले भी बता सकते थे ।

Rahul  की माँ ने यह बात महात्माजी से पूछी  इस पर महात्माजी ने  Rahul  की माँ से कहा; “दो सप्ताह पहेले , मै  भी बहुत मिठाईया खाता था; पिच्छाले इन दो सप्ताहो में मैंने अपनी इस गलत आदत को दूर किया है।”

दोस्तों, इस कहानी के महात्माजी और; कोई नहीं बल्कि हमारे प्यारे बापू महात्मा गांधीजी थे। महात्मा गाँधी जी ने कहा है

“Be the change, you want to see, in the world.”

इसी लिए दोस्तो पहले अपनी गलत आदत को दूर कीजिये और तब दुसरो को सलाह दीजिये।

इस कहानी का Animation Video YouTube देखने के किये निचे Image पर Click करे

Thanks for Reading “Short Essay on Mahatma Gandhi” hope You are like this post. If you Like do Comment and let me know your thought…

Summary
Review Date
Reviewed Item
Short Essay on Mahatma Gandhi
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Reply

Close Menu